मंगलवार, 28 जून 2016

Apne Chehre Se Jo Zahir Hai Chupaye Kaise



Apne Chehre Se Jo Zahir Hai, Chupaye Kaise,
Apne Chehre Se Jo Jahir Hai, Chupaye Kaise,
Teri Marzi Ke Mutabik Nazar Aaye Kaise,

Ghar Sajane Ka Tasabur To Bahut Baad Ka Hai,
Pahle Yeh Tai Ho Ke Is Ghar Ko Bachaye Kaise,

Kad Kha Aakh Ka Har Daag Badal Deta Hai,
Hasne Wale Tujhe Aasa Nazar Aye Kaise,

Koi Apni Hi Nazar Se Jo Hame Dekhega,
Ek Katre Ko Samandar Nazar Aye Kaise
Album: FAVORITS
Singers: Jagjit Singh
Poet: Waseem Barelavi
अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपायें कैसे 
तेरी मर्जी के मुताबिक नज़र आयें कैसे

घर सजाने का तसव्वुर तो बहुत बाद का है 
पहले ये तय हो की इस घर को बचाएं कैसे

क़हक़हा आँख का बर्ताव बदल देता है 
हंसने वाले तुझे आंसू नज़र आयें कैसे

कोई अपनी ही नज़र से तो हमें देखेगा 
एक कतरे को समंदर नज़र आयें कैसे 
एल्बम: फेवरिट्स
गायक: जगजीत सिंह
शायर: वसीम बरेलवी
Watch/Listen on youtube:
Pictorial Presentation: