मंगलवार, 28 जून 2016

Sarakti Jaaye Hain Rukh Se Naqaab Aahistaa Aahista



Sarakti Jaaye Hain Rukh Se Naqaab Aahistaa-aahista
Nikalta Aa Raha Hai Aaftaab Aahistaa-aahista

Jawan Hone Lage Jab Wo To Humse Kar Liya Parda
Hayaa Yakalakht Aaee Aur Shabaab Aahistaa-aahista

Sab-e-furkat Ka Jaaga Hoon Paristhon Ab To Sone Do
Kabhi Fursat Mein Kar Lena Hisaab Aahistaa-aahista

Hamaare Aur Tumhaare Pyaar Mein Bas Farq Hai Itna
Idhar To Jaldi Jaldi Hai Udhar Aahistaa-aahista

Badi Bedardi Se Sar Kaate 'ameer' Aur Main Kahoon Unse
Huzur Aahistaa Aahistaa Janaab Aahistaa-aahista
Album: FAVORITS
Singers: Jagjit Singh
Poet: Amir Minai
सरकती जाये है रुख से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता
निकलता आ रहा है आफ़ताब आहिस्ता आहिस्ता

जवां होने लगे जब वो तो हमसे कर लिया परदा
हया यकलख़्त आई और शबाब आहिस्ता आहिस्ता

सवाल-ए-वसल पे उनको उदू का खौफ़ है इतना
दबे होंठों से देते हैं जवाब आहिस्ता आहिस्ता

हमारे और तुम्हारे प्यार में बस फ़र्क है इतना
इधर तो जल्दी-जल्दी है उधर आहिस्ता आहिस्ता

वो बेदर्दी से सर काटें अमीर और मैं कहूँ उनसे
हुज़ूर आहिस्ता आहिस्ता जनाब आहिस्ता आहिस्ता

शब-ए-फ़ुर्क़त का जागा हूँ फ़रिश्तों अब तो सोने दो
कभी फ़ुर्सत में कर लेना हिसाब, आहिस्ता आहिस्ता
एल्बम: फेवरिट्स
गायक: जगजीत सिंह
शायर: अमीर मीनाई
Watch/Listen on youtube:
Pictorial Format: