मंगलवार, 28 जून 2016

Tujhse Rukhsat Ki Woh, Shaam-E-Aask-Afshan Haay Haay



Tujhse Rukhsat Ki Woh, Sham-e-Ask Afshan Haay Haay,
Who Udaasi Who Phijare, Giri Asama Haay Haay,

Yaun Ka Peka Chum Lenge Ek Bhizi Si Arzu,
Wanbabar Giri Ka Sharma Aansa Arma Haay Haay,

Who Mere Hoto Pe Kuch, Kehne Ki Hasrat Way Shauk,
Who Teri Akho Mein, Kuch Sunney Ka Arma Haay Haay
Album: FAVORITS
Singers: Jagjit Singh
Poet: Josh Malihabadi
तुझ से रुख़सत की वो शाम-ए-अश्क़-अफ़्शां हाए हाए,
वो उदासी वो फ़िज़ा-ए-गिरिया सामां हाए हाए,
यां कफ़-ए-पा चूम लेने की भिंची सी आरज़ू,
वां बगल-गीरी का शरमाया सा अरमां हाए हाए,
वो मेरे होंठों पे कुछ कहने की हसरत वाये शौक़,
वो तेरी आँखों में कुछ सुनने का अरमां हाए हाए,
एल्बम: फेवरिट्स
गायक: जगजीत सिंह
शायर: जोश मलिहाबादी
Watch/Listen on youtube: 

Pictorial Presentation: