गुरुवार, 30 जून 2016

Apni Aag Ko Zinda Rakhna Kitna Mushkil Hai



Apni Aag Ko Zinda Rakhna Kitna Mushkil Hai,
Patthar Beech Aaeeena Rakhna Kitna Mushkil Hai

Kitna Aasaan Hai Tasveer Banaana Auron Kee,
Khud Ko Pase-aaeenaa Rakhna Kitna Mushkil Hai

Tumne Mandir Dekhe Honge Ye Mera Aangan Hai,
Ek Diya Bhee Jalta Rakhna Kitna Mushkil Hai

Chullu Mein Ho Dard Ka Dariya Dhyaan Mein Uske Honth,
Yun Bhee Khud Ko Pyaasa Rakhna Kitna Mushkil Hai
Album: FAVORITS
Singers: Jagjit Singh
Poet: Ishrat Afreen
अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है

कितना आसान है तस्वीर बनाना औरों की
ख़ुद को पस-ए-आईना रखना कितना मुश्किल है

तुमने मंदिर देखे होंगे ये मेरा आँगन है
एक दिया भी जलता रखना कितना मुश्किल है

चुल्लू में हो दर्द का दरिया ध्यान में उसके होंठ
यूँ भी खुद को प्यासा रखना कितना मुश्किल है
एल्बम: फेवरिट्स
गायक: जगजीत सिंह
शायर: इशरत आफरीन
Watch/Listen on youtube:
Pictorial Presentation