सोमवार, 17 अप्रैल 2017

Dhuan Utha Hai Kahin Aag Jal Rahi Hogi



Dhuan Uttha Hai, Kahi Aag Jal Rahi Hogi,
Kahi Se Roshani Bahar Nikal Rahi Hogi,

Yeh Charo Aur Se Aate Hue Kai Raste,
Jab Ek Dusre Ke Jism Aa Ke Chuute Hai,

Koi To Haath Mil Kar Nikal Gaya Hoga,
Kisi Bhi Mod Pe Manjil Badal Gayi Hogi,

Har Ek Roz Naya Asmaan Khulta Hai,
Khabar Nai Hai Kal Din Ka Rang Kya Hoga,

Palak Se Pani Gira Hai To Girne Do,
Koi Purani Tamanna Pighal Rahi Hogi
Album: Leela (2002)
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Gulzar
धुआँ उठा है कहीं आग जल रही होगी
असीर रौशनी बाहर निकल रही होगी

ये चारों ओर से आते हुए कई रस्ते
जब एक दूसरे के जिस्म आ के छूते हैं
कोई तो हाथ मिलाकर निकल गया होगा
किसी की मोड़ पे मंज़िल बदल गई होगी

हरेक रोज़ नया आसमान खुलता है
ख़बर नहीं है कि कल दिन का रंग क्या होगा
पलक से पानी गिरा है तो उसको गिरने दो
कोई पुरानी तमन्ना पिघल रही होगी
एल्बम: लीला (2002)
गायक: जगजीत सिंह
शायर: गुलजार
Watch/Listen on YouTube: Pictorial Presentation