सोमवार, 17 अप्रैल 2017

Khumare Gham Hai Mahekti Fiza Mein Jeete Hai



Khumhare Gum Hai, Mehakti Fiza Mein Jite Hai,
Tere Khayal Ki Abohawan Mein Jite Hai,

Bade Tapak Se Miltey Hai, Milne Wale Mujhe,
Who Mere Dost Hai, Teri Wafa Meh Jite Hai,

Firake Yaar Me Saanso Ko Roke Rakhte Hai,
Har Ek Lamha Guzarti Kaza Me Jite Hai,

Nabaat Puri Hoi Thi, Ke Raat Tooth Gayi,
Adhure Khawab Ki Adhi Saza Mein Jite Hai,

Tumhari Bato Mein Koi Masiha Basta Hai,
Hasi Labo Se Barasti Shafa Mein Jite Hai
Album: Leela (2002)
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Gulzar
खुमार-ए-ग़म है महकती फ़िज़ा में जीते हैं
तेरे ख़याल की आब-ओ-हवा में जीते हैं

बड़े तपाक से मिलते हैं मिलने वाले मुझे
वो मेरे दोस्त हैं तेरी वफ़ा में जीते हैं

फ़िराक-ए-यार में साँसों को रोके रखते हैं
हर एक लम्हा गुज़रती क़ज़ा में जीते हैं

ना बात पूरी हुई थी के रात टूट गयी
अधूरे ख़्वाब की आधी सज़ा में जीते हैं

तुम्हारी बातों में कोई मसीहा बसता है
हसीन लबों से बरसती शफ़हा में जीते हैं
एल्बम: लीला (2002)
गायक: जगजीत सिंह
शायर: गुलज़ार
Watch/Listen on YouTube: Pictorial Presentation