सोमवार, 17 अप्रैल 2017

Jabse Kareeb Hoke Chale Zindagi Se Hum


Jabse Kareb Ho Ke Chale, Zindagi Se Hum,
Khud Apne Ayine Ko Lage, Ajnabi Se Hum,

Akho Ko Deke Roshani, Gul Kar Diye Chirag,
Tang Aa Chuke The Waqt Ki Is Dillagi Se Hum,

Ache Bure Ke Fark Ne Basti Uzad Di,
Majbor Ho Ke Milne Lage Har Kisi Se Hum.

Jabse Kareb Ho Ke Chale, Zindagi Se Hum,
Khud Apne Ayine Ko Lage, Ajnabi Se Hum,

Wo Kon Hai Jo Pass Bhi Hai Aur Dur Bhi,
Har Lamha Mod Pe Hai, Kisi Ko Kisi Se Hum,

Ehsaas Yeh Bhi Kam Nahi Jine Ke Wastey,
Har Dard Ji Rahe Hai, Tumhari Khusi Se Hum,

Kuch Dur Chal Ke Raste, Sub Ek Se Lage,
Milne Gaye Kisi Se, Mil Aye Kisi Se Hum,

Kis Mod Par Hayat Ne, Phucha Diya Hame,
Naraj Hai Gamo Se, Na Khus Hai Khusi Se Hum
Album: Leela (2002)
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Nida Fazli
जब से क़रीब हो के चले, ज़िन्दगी से हम
ख़ुद अपने आईने को लगे, अजनबी से हम

आँखों को दे के रोशनी गुल कर दिये चराग़
तंग आ चुके हैं वक़्त कि इस दिल्लगी से हम

अच्छे बुरे के फ़र्क ने बस्ती उजाड़ दी
मजबूर हो के मिलने लगे हर किसी से हम

वो कौन है जो पास भी है और दूर भी
हर लम्हा माँगते हैं किसी को किसी से हम

एहसास ये भी कम नहीं जीने के वास्ते
हर दर्द जी रहे हैं तुम्हारी खुशी से हम

कुछ दूर चलके रास्ते सब एक से लगे
मिलने गए किसी से मिलाये किसी से हम

किस मोड़ पर हयात ने पहुँचा दिया हमें
नाराज़ है ग़मों से ना खुश है खुशी से हम
एल्बम: लीला (2002)
गायक: जगजीत सिंह
शायर: निदा फ़ाज़ली
Watch/Listen on YouTube: Pictorial Presentation