सोमवार, 17 अप्रैल 2017

Kabhi To Aasmaan Se Chand Utre Jaam Ho Jaye



Kabhi To Aasma Se Chand Utre Jaam Ho Jaye;
Tumhare Naam Ki Ek Khubsurat Sham Ho Jaye!

Woh Mera Naam Sun Kar Kuch Jara Sharma Se Jate Hai;
Bahut Mumkin Hai Kaal Is Ka Naam Mahobat Ho Jaye!

Jara Sa Muskura Kar Haal Pucho Dil Behal Jaye;
Hamara Kaam Ho Jaye Tumhara Naam Ho Jaye!

Ujale Apni Ano Ke Hamare Saath Rehte Ho;
Na Jane Kis Gali Mein Jindagi Ki Shaam Ho Jaye!
Album: Tum To Nahin Ho
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Bashir Badr
कभी तो आस्माँ से चाँद उतरे जाम हो जाए
तुम्हारे नाम की इक ख़ूबसूरत शाम हो जाए

वो मेरा नाम सुनकर कुछ ज़रा शर्मा से जाते हैं
बहुत मुमकिन है कल इसका मुहब्बत नाम हो जाए

ज़रा सा मुस्कुरा कर हाल पूछो दिल बहल जाए
हमारा काम हो जाए तुम्हारा नाम हो जाए

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाए
चराग़ों की तरह आँखें जलें, जब शाम हो जाए

मैं ख़ुद भी अहतियातन, उस गली से कम गुजरता हूँ
कोई मासूम क्यों मेरे लिए, बदनाम हो जाए

अजब हालात थे, यूँ दिल का सौदा हो गया आख़िर
मुहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाए

समन्दर के सफ़र में इस तरह आवाज़ दो हमको
हवायें तेज़ हों और कश्तियों में शाम हो जाए

मुझे मालूम है उसका ठिकाना फिर कहाँ होगा
परिंदा आस्माँ छूने में जब नाकाम हो जाए
एल्बम: तुम तो नहीं हो
गायक: जगजीत सिंह
शायर: बशीर बद्र
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation