मंगलवार, 13 जून 2017

Kitni Pee Kaise Kati Raat Mujhe Hosh Nahi



Kitani Pi Kaise Kati Raat Mujhe Hosh Nahin
Raat Ke Saath Gayi Baat Mujhe Hosh Nahin

Mujh Ko Ye Bhii Nahin Maalum Ki Jaanaa Hai Kahan
Tham Le Koi Mera Haath Mujhe Hosh Nahin

Aansuo.n Aur Sharaabo.n Me.n Guzar Hai Ab To
Main Ne Kab Dekhi Thi Barasaat Mujhe Hosh Nahin

Jaane Kyaa Tuutaa Hai Paimaanaa Ki Dil Hai Mera
Bikhare Bikhare Hain Khayaalaat Mujhe Hosh Nahin
Album: SAHER
Singer: JAGJIT SINGH
Music Director: JAGJIT SINGH
Lyricist: RAHAT INDORI
कितनी पी कैसे कटी रात मुझे होश नहीं
रात के साथ गई बात मुझे होश नहीं

मुझको ये भी नहीं मालूम के जाना है कहाँ
थाम ले कोई मेरा हाथ मुझे होश नहीं

जाने क्या टूटा है, पैमाना, कि दिल है मेरा
बिख़रे-बिख़रे हैं ख़यालात मुझे होश नहीं

आँसुओं और शराबों में गुज़र है अब तो
मैं ने कब देखी थी बरसात मुझे होश नहीं
एल्बम: सहर
गायक: जगजीत सिंह
शायर: राहत इंदोरी
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation