रविवार, 18 जून 2017

Yaad Nahin Kya Kya Dekha Tha Sare Manzar Bhool Gaye



Yaad Nahin Kyaa Kyaa Dekhaa Thaa Saare Manzar Bhuul Gaye
Us Ki Galiyon Se Jab Laute Apanaa Bhi Ghar Bhuul Gaye

Khuub Gaye Pardes Ki Apane Divaar-o-dar Bhuul Gaye
Shish-mahal Ne Aisaa Gheraa Mitti Ke Ghar Bhuul Gaye

Tujh Ko Bhi Jab Apani Qasamen Apane Vaade Yaad Nahin
Ham Bhi Apane Khvaab Teri Aankhon Men Rakh Kar Bhuul Gaye

Mujh Ko Jinhone Qatl Kiyaa Hai Koi Unhen Batalaaye "nazeer"
Meri Laash Ke Pahaluu Men Vo Apanaa Khanjar Bhuul Gaye
Album: SAHER
Singer: JAGJIT SINGH
Music Director: JAGJIT SINGH
Lyricist: NAZEER BAQARI
याद नहीं क्या क्या देखा था सारे मंज़र भूल गए
उस की गलियों से जब लौटे अपना भी घर भूल गए

ख़ूब गए परदेस के अपने दीवार-ओ-दर भूल गए
शीश-महल ने ऐसा घेरा मिट्टी के घर भूल गए

तुझको भी जब अपनी कसमें अपने वादे याद नहीं
हम भी अपने ख़्वाब तेरी आँखों में रख कर भूल गए

मुझको जिन्होंने क़त्ल किया है कोई उन्हें बतलाये 'नज़ीर'
मेरी लाश के पहलू में वो अपना ख़ंजर भूल गए
एल्बम: सहर
गायक: जगजीत सिंह
शायर: नज़ीर बाक़री
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation