शनिवार, 28 जनवरी 2017

Aise Hijr Ke Mausam Tab Tab Aate Hain



Aise Hijr Ke Mausam Tab Tab Aate Hain
Tere Alaawa Yaad Hame Sab Aate Hain

Jaadu Ki Aankhon Se Bhi Dekho Duniya Ko
Khwaabon Ka Kya Hai Wo Har Sab Aate Hain

Ab Ke Safar Ki Baat Nahin Baaqi Warna
Hum Ko Bulaayen Dasth Se Jab Wo Aate Hain

Kaagaz Ki Kasthi Mein Dariya Paar Kiya
Dekho Hum Ko Kya Kya Kartab Aate Hain
Album: Hope
Singers: Chitra Singh
Poet: Shahryar
ऐसे हिज्र के मौसम तब तब आते हैं,
तेरे अलावा याद हमें सब आते हैं,
जादू की आँखों से भी देखो दुनिया को,
ख़्वाबों का क्या है वो हर सब आते हैं,
अब के सफ़र की बात नहीं बाक़ी वरना,
हम को बुलाएं दस्त से जब वो आते हैं,
कागज़ की कस्थी में दरिया पार किया,
देखो हम को क्या क्या करतब आते हैं.
एल्बम: होप
गायक: चित्रा सिंह
शायर: शहरयार
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation