मंगलवार, 31 जनवरी 2017

Haath Chhuten Bhi Tho Rishthe Nahin Chhoda Karthe



Haath Chhuten Bhi Tho Rishthe Nahin Chhoda Karthe
Waqt Ki Shaakh Se Lamhein Nahin Toda Karthe

Jiski Aawaaz Mein Silwat Ho Nigahon Mein Shikan
Aise Tasvir Ke Tukde Nahin Joda Karthe

Shahad Jeene Ka Mila Karta Hai Thoda Thoda
Jaane Waalon Ke Liye Dil Nahin Thoda Karthe

Lagke Saahil Se Jo Behta Hai Use Behne Do
Aisi Dariya Ka Kabhi Rukh Nahin Moda Karthe
Album: MARASIM
Singers: Jagjit Singh
Poet: Gulzar
हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते;
वक़्त की शाख़ से लम्हें नहीं तोड़ा करते!
जिस की आवाज़ में सिलवट हो निगाहों में शिकन;
ऐसी तस्वीर के टुकड़े नहीं जोड़ा करते!
शहद जीने का मिला करता है थोड़ा थोड़ा;
जाने वालों के लिये दिल नहीं थोड़ा करते!
लग के साहिल से जो बहता है उसे बहने दो;
ऐसी दरिया का कभी रुख़ नहीं मोड़ा करते!
एल्बम: मरासिम
गायक: जगजीत सिंह
शायर: गुलज़ार
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation