रविवार, 22 जनवरी 2017

Dost Ban-banke Mile Mujhko Mitaane Waale



Dost Ban-banke Mile Mujhko Mitaane Waale
Maine Dekhe Hain Kai Rang Badalane Waale

Tumne Chup Rehkar Sitam Aur Bhee Dhaayaa Mujhpar
Tumse Achchhe Hain Mere Haal Pe Hansne Waale

Main To Ikhalaq Ke Hathon Hi Bika Kartaa Hoon
Aur Honge Tere Baazar Mein Bikne Waale

Akhree Daur Pe Salaam-e-dil-e-mustar Le Lo
Phir Naa Lautenge Shab-e-hijr Pe Ronewaale
Album: FAVORITS
Singers: Jagjit Singh
Poet: Saeed Rahi
दोस्त बन बन के मिले मुझको मिटाने वाले
मैने देखे हैं कई रंग बदलने वाले
तुमने चुप रहके सितम और भी ढाया मुझपर
तुमसे अच्छे हैं मेरे हाल पे हँसने वाले
मैं तो इखलाक़ के हाथों ही बिका करता हूँ
और होंगे तेरे बाज़ार में बिकने वाले
आख़री बार सलाम-ए-दिल-ए-मुज़्तर ले लो
फिर ना लौटेंगे शब-ए-हिज्र पे रोनेवाले
*मुज़्तर - distressed heart
एल्बम: फेवरिट्स
गायक: जगजीत सिंह
शायर: सईद राही
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation