रविवार, 22 जनवरी 2017

Angdai Par Angdai Leti Hai Raat Judai Ki



Angdai Par Angdai Leti Hai Raat Judaee Kee
Tum Kya Samjho Tum Kya Jaano Baat Meri Tanhaayee Kee

Kaun Siyahi Ghol Raha Tha Waqt Ke Behte Dariya Mein
Maine Aankh Jhuki Dekhi Hai Aaj Kisi Harjee Kee

Wasl Ki Raat Na Jaane Kyoon Israar Tha Unko Jaane Par
Waqt Se Pehle Doob Gaye Taaron Ne Badi Daanaee Kee

Udte Udte Aas Ka Panchi Door Ufaq Mein Doob Gaya
Rote Rote Baith Gayee Awaaz Kisi Saudaaee Kee
Album: FAVORITS
Singers: Jagjit Singh
Poet: Qateel Sifai
अंगड़ाई पर अंगड़ाई लेती है रात जुदाई की
तुम क्या समझो तुम क्या जानो बात मेरी तन्हाई की
कौन सियाही घोल रहा था वक़्त के बहते दरिया में
मैंने आँख झुकी देखी है आज किसी हरजाई की
वस्ल की रात न जाने क्यूँ इसरार था उनको जाने पर
वक़्त से पहले डूब गए तारों ने बड़ी दानाई की
उड़ते-उड़ते आस का पंछी दूर उफ़क़ में डूब गया
रोते-रोते बैठ गई आवाज़ किसी सौदाई की
एल्बम: फेवरिट्स
गायक: जगजीत सिंह
शायर: क़तील शिफ़ाई
Watch/Listen on youtube: 
By Chitra Singh
By Nusrat Fateh Ali Khan (Live)