मंगलवार, 31 जनवरी 2017

Shaam Se Aankh Mein Nami Si Hai


Shaam Se Aankh Mein Nami Si Hai
Aaj Fir Aapki Kami Si Hai

Dafan Kar Do Hamein Ki Saans Mile
Nabz Kuch Der Se Thami Si Hai

Waqt Rehtha Nahin Kahin Chupkar
Iski Aadat Bhi Aadmi Si Hai

Koi Rishtha Nahin Raha Fir Bhi
Ek Tasleem Laazmi Si Hai
Album: MARASIM
Singers: Jagjit Singh
Poet: Gulzar
शाम से आँख में नमी सी है;
आज फिर आपकी कमी सी है!
दफ़्न कर दो हमें कि सांस मिले;
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है!
वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर;
इसकी आदत भी आदमी सी है!
कोई रिश्ता नहीं रहा फिर भी;
एक तस्लीम लाज़मी सी है!
एल्बम: मरासिम
गायक: जगजीत सिंह
शायर: गुलज़ार
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation