रविवार, 22 जनवरी 2017

Mili Hawaon Mein Udne Ki Wo Saza Yaaro

Mili Hawaon Mein Udne Ki Wo Saza Yaaro
Ke Main Zameen Ke Rishton Se Kat Gaya Yaaro 

Woh Be-khayal Musafir Main Raasta Yaaro
Kahan Tha Bas Mein Mere Usko Rokna Yaaro 

Mere Kalam Pe Zamane Kee Gard Aisee Thee
Ke Apne Baare Mein Kuch Bhi Na Likh Saka Yaaro

Tamaam Sheher Hi Jiskee Talaash Mein Gum Tha
Main Uske Ghar Ka Pata Kis'se Poochta Yaaro
Album: FAVORITS
Singers: Jagjit Singh
Poet: Waseem Barelvi

मिली हवाओं में उड़ने की वो सज़ा यारों;
के मैं ज़मीन के रिश्तों से कट गया यारों!

वो बेख़याल मुसाफ़िर, मैं रास्ता यारों;
कहाँ था बस में मेरे, उस को रोकना यारों!

मेरे क़लम पे ज़माने की गर्द ऐसी थी;
के अपने बारे में कुछ भी न लिख सका यारों!

तमाम शहर ही जिस की तलाश में गुम था;
मैं उस के घर का पता किस से पूछता यारों!
एल्बम: फेवरिट्स
गायक: जगजीत सिंह
शायर: वसीम बरेलवी
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation