शनिवार, 28 जनवरी 2017

Dhoop Hai Kya Aur Saya Kya Hai Ab Maloom Hua



Dhoop Hai Kya Aur Saaya Kya Hai Ab Maloom Hua
Ye Sab Khel Tamasha Kya Hai Ba Maloom Hua

Hanste Phool Ka Chehra Dekhoon Aur Bhar Aayi Aankh
Apne Saath Ye Kissa Kya Hai Ab Maloom Hua

Hum Barson Ke Baad Bhi Unko Ab Taq Bhool Na Paaye
Dil Se Unka Rishtaa Kya Hai Ab Maloom Hua

Sehra Sehra Pyaase Bhatke Saari Umr Jale
Baadal Ka Ik Tukda Kya Hai Ab Maloom Hua
Album: Hope
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Zafar Gorakhpuri
धूप है क्या और साया क्या है अब मालूम हुआ;
ये सब खेल तमाशा क्या है अब मालूम हुआ!
हँसते फूल का चेहरा देखूँ और भर आई आँख;
अपने साथ ये क़िस्सा क्या है अब मालूम हुआ!
हम बरसों के बाद भी उसको अब तक भूल न पाए;
दिल से उसका रिश्ता क्या है अब मालूम हुआ!
सहरा सहरा प्यासे भटके सारी उम्र जले;
बादल का इक टुकड़ा क्या है अब मालूम हुआ!
एल्बम: होप
गायक: जगजीत सिंह
शायर: जफ़र गोरखपुरी
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation