रविवार, 12 फ़रवरी 2017

Aaj Ham Bichhade Hain To Kitne Rangeele Ho Gaye



Aaj Ham Bichhade Hain to, Kitne Rangeele Ho Gaye
Meri Aankhen Sukhi, Tere Haath Peele Ho Gaye

Kab Ki Patthar Ho Chuki Thee Muntazir Aankhe Magar
Chhooke Dekha To Mere Hath Geele Ho Gaye

Jane Kya Ehsas Saaz-e-husn Taron Mein Hain
Jinko Chhoote Hi Mere Nagmen Raseele Ho Gaye

Ab Koi Ummeed Hai Sahid, Na Koi Aarzoo
Aasre Toote To Jeene Ke Waseele Ho Gaye
Album: Love Is Blind
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Shahid Kabir
आज हम बिछड़े हैं तो कितने रंगीले हो गए
मेरी आंखें सुर्ख़ तेरे हाथ पीले हो गए
कब की पत्थर हो चुकी थीं, मुंतज़िर आँखें मगर
छू के जब देखा तो मेरे हाथ गीले हो गए
मुंतज़िर - प्रतीक्षारत
जाने क्या एहसास साज़-ए-हुस्न के तारों में है
जिनको छूते ही मेरे नग़मे रसीले हो गए
अब कोई उम्मीद है 'शाहिद' न कोई आरज़ू
आसरे टूटे तो जीने के वसीले हो गए
वसीले - जरिये
एल्बम: लव इज ब्लाइंड
गायक: जगजीत सिंह
शायर: शाहिद कबीर
Watch/Listen on YouTube: Pictorial Presentation