रविवार, 12 फ़रवरी 2017

Ek Jaam Mein Gire Hain Kuch Log Ladkhada Ke



Ek Jaam Mein Gire Hain Kuch Log Ladkhada Ke
Peene Gaye The Chalke Laye Gaye Uthake

Sehabaa Ki Aabaroo Par Pani Na Pher Saaqi
Main Khud Hi Pi Raha Hoon Aansoo Mila Mila Ke

Wo Meri Lagzishon Par Tanqeed Kar Rahe Hain
Jo Maikade Mein Khud Hi Chalte Hain Ladkhadaa Ke

Ek Din Tu Aa Ke Meri Mannat Ki Laaj Rakh Le
Kab Se Ujaadta Hun Mehfil Saja Saja Ke

Imaan 'Nazeer' Apna De Aaye Hain Buton Ko
Dil Ke Bade Gani Hain Baithe Hain Dhan Luta Ke
Album: Love Is Blind
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Nazeer Banarasi
इक जाम में गिरे हैं कुछ लोग लड़खड़ा के
पीने गए थे चल के लाए गए उठा के
सहबा की आबरू पर पानी न फेर साक़ी
मैं ख़ुद ही पी रहा हूँ आँसू मिला मिला के
सहबा - शराब
वो मेरी लग्ज़िशों पर तन्क़ीद कर रहे हैं
जो मैकदे में ख़ुद ही चलते हैं लड़खड़ा के
लग्ज़िशों - गलतियों
तन्क़ीद - आलोचना, समीक्षा
इक दिन तू आ के मेरी मन्नत की लाज रख ले
कब से  उजाड़ता हूँ महफ़िल सजा सजा के
ईमाँ 'नज़ीर' अपना दे आए हैं बुतों को
दिल के बड़े ग़नी हैं बैठे हैं धन लुटा के
ग़नी - बहुत बड़ा धनवान, परम स्वतंत्र
एल्बम: लव इज ब्लाइंड
गायक: जगजीत सिंह
शायर: नज़ीर बनारसी
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation