गुरुवार, 2 फ़रवरी 2017

Har Ek Baat Pe Kehte Ho Tum Ke 'too Kya Hai



Har Ek Baat Pe Kehte Ho Tum Ki Too Kya Hai?
Tumheen Kaho Ke Yeh Andaaz-e-guftgoo Kya Hai?

Ragon Mein Daudte Firne Ke Ham Naheen Qaayal;
Jab Aankh Hee Se Na Tapka To Fir Lahoo Kya Hai?

Chipak Raha Hai Badan Par Lahoo Se Pairaahan;
Hamaaree Jeb Ko Ab Haajat-e-rafoo Kya Hai?

Jalaa Hai Jicm Jahaan Dil Bhee Jal Gaya Hoga;
Kuredate Ho Jo Ab Raakh, Justjoo Kya Hai?

Rahee Na Taaqat-e-guftaar, Aur Agar Ho Bhee;
To Kis Ummeed Pe Kahiye Ke Aarzoo Kya Hai?
Album: Mirza Ghalib
Singers: Jagjit Singh & Chitra Singh
Lyricist: Mirza Ghalib
हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है?
तुम ही कहो कि ये अंदाज़-ए-ग़ुफ़्तगू क्या है?

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है?

चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन
हमारी जेब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है?

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तजू क्या है?

रही ना ताक़त-ए-गुफ़्तार और हो भी
तो किस उम्मीद पे कहिए कि आरज़ू क्या है?
एल्बम: मिर्ज़ा ग़ालिब
गायक: जगजीत सिंह & चित्रा सिंह
शायर: मिर्ज़ा ग़ालिब
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation