गुरुवार, 2 फ़रवरी 2017

Qaasid Ke Aate Aate Khat Ek Aur Likh Rakhoon

Qaasid Ke Aate Aate Khat Ek Aur Likh Rakhoon
Main Jaanta Hoon Jo Wo Likhenge Jawaab Mein

Kab Se Hoon Kya Bataaoon Jahaan Mein Kharaab Mein
Jab Haaye Hizr Ko Bhi Rakhoo Gar Hisaab Mein

Mujh Tak Kab Unki Bazm Mein Aata Thaa Daur-e-jaam
Saaqi Nein Kuch Mila Na Diya Ho Sharaab Mein

Taaqir Na Intezaar Mein Neend Aaye Umr Bhar
Aane Ka 'ehed Kar Gaye Aaye Jo Khwaab Mein

'Ghalib' Chuti Sharaab Par Ab Bhi Kabhi Kabhi
Peeta Hoon Roj-e-abro Shab-e-maahtaab Mein
Album: Mirza Ghalib
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Mirza Ghalib
क़ासिद के आते आते ख़त एक और लिख रखूँ,
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में.

कब से हूँ क्या बताऊँ जहान-ए-ख़राब में,
शब हाय हिज्र को भी रखूं गर हिसाब में.

मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौर-ए-जाम,
साक़ी ने कुछ मिला ना दिया हो शराब में.

ता फिर ना इंतज़ार में नींद आये उम्र भर,
आने का अहद कर गए आये जो ख्वाब में.

ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी कभी,
पीता हूँ रोज़-ए-अब्र-ओ-शब-ए-माहताब में.
एल्बम: मिर्ज़ा ग़ालिब
गायक: जगजीत सिंह
शायर: मिर्ज़ा ग़ालिब
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation