बुधवार, 17 मई 2017

Din Guzar Gaya, Aitbaar Mein



Din Guzar Gaya, Aitbaar Mein
Raat Kat Gayi Intezaar Mein

Wo Maza Kahan Basle Yaat Mein
Lutf Jo Milaa Intezaar Mein

Unki Ik Nazar Kaam Kar Gayi
Hosh Ab Kahan Hoshiyar Mein

Mere Kabze Mein Aaiyeena To Hai
Main Hoon Aapke Ikhtiyaar Mein

Aankh To Uthee Phool Ki Taraf
Dil Ulazh Gaya Husn-haar Mein

Tumse Kya Kahen, Kitne Gam Sahen
Hamne Be-wafa Tere Pyaar Mein

Fikr-e-aashiyaan Har Khizaam Ki
Aashiyaan Jalaa Har Bahaar Mein

Kis Tarah Ye Gham Bhool Jaaye Hum
Wo Juda Hua Ishtihaar Mein
Album: SOMEONE SOMEWHERE
Singers: Jagjit Singh & Chitra Singh
Lyricist: Fana Nizami
दिन गुज़र गया ऐतबार में
रात कट गयी इंतज़ार में

वो मज़ा कहाँ वस्ल-ए-यार में
लुत्फ़ जो मिला इंतज़ार में

उनकी इक नज़र, काम कर गयी
होश अब कहाँ होशियार में

मेरे कब्ज़े में कायनात है
मैं हूँ आपके इख़्तियार में

आँख तो उठी फूल की तरफ
दिल उलझ गया हुस्न-ए-ख़ार में

तुमसे क्या कहें, कितने ग़म सहे
हमने बेवफ़ा तेरे प्यार में

फ़िक्र-ए-आशियाँ, हर ख़िज़ाँ में की
आशियाँ जला हर बहार में

किस तरह ये ग़म भूल जाएं हम
वो जुदा हुआ इस बहार में
एल्बम: समवन समव्हेयर
गायक: जगजीत सिंह & चित्रा सिंह
शायर: फ़ना निज़ामी
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation