सोमवार, 15 मई 2017

Kabhi Yun Bhi To Ho Dariya Ka Sahil Ho



Dariya Ka Saahil Ho, Poore Chaand Ki Raat Ho
Aur Tum Aao, Kabhi Yoon Bhi To Ho

Pariyon Ki Mehfil Ho, Koi Tumhari Baat Ho
Aur Tum Aao, Kabhi Yoon Bhi To Ho

Ye Naram Mulaayam Thandi Hawaayen, Jab Ghar Se Tumhaare Guzre
Tumhari Khushboo Churaayen, Mere Ghar Le Aayen,
Kabhi Yoon Bhi To Ho

Sooni Har Mehfil Ho, Koi Na Mere Saath Ho
Aur Tum Aao, Kabhi Yoon Bhi To Ho

Ye Baadal Aise Toot Ke Barse, Mere Dil Ki Tarah Milne Ko,
Tumhara Dil Bhi Tarse, Tum Niklo Ghar Se,
Kabhi Yoon Bhi To Ho

Tanhaai Ho Dil Do, Boonde Hon Barsaat Ho Aur Tum Aao.
Album: SILSILAY
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Javed Akhtar
कभी यूँ भी तो हो, दरिया का साहिल हो
पूरे चाँद की रात हो, और तुम आओ

कभी यूँ भी तो हो, परियों की महफ़िल हो
कोई तुम्हारी बात हो, और तुम आओ

कभी यूँ भी तो हो, ये नर्म मुलायम ठंडी हवायें
जब घर से तुम्हारे गुज़रें, तुम्हारी ख़ुशबू चुरायें
मेरे घर ले आयें

कभी यूँ भी तो हो, सूनी हर महफ़िल हो
कोई न मेरे साथ हो, और तुम आओ

कभी यूँ भी तो हो, ये बादल ऐसा टूट के बरसे
मेरे दिल की तरह मिलने को, तुम्हारा दिल भी तरसे
तुम निकलो घर से

कभी यूँ भी तो हो, तनहाई हो, दिल हो
बूँदें हो, बरसात हो, और तुम आओ
कभी यूँ भी तो हो
एल्बम: सिलसिले
गायक: जगजीत सिंह
शायर: जावेद अख्तर
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation