सोमवार, 15 मई 2017

Sach Ye Hai Bekaar Mein Gham Hota Hai



Sach Ye Hai Bekaar Mein Gham Hota Hai
Jo Chaaha Tha Duniya Mein Kam Hota Hai

Dhalta Suraj Faila Jangal Rasta Gum
Humse Pucho Kaisa Aalam Hota Hai

Gairon Ko Kab Fursat Hai Dukh Dene Ki
Jab Hota Hai Koi Hamdum Hota Hai

Zakhm To Humne In Aankhon Se Dekhen Hain
Logon Se Sunte Hain Marham Hota Hai

Zehan Ki Shaakhon Par Ashaar Aa Jaaten Hain
Jab Teri Yaadon Ka Mausam Hota Hai
Album: SILSILAY
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Javed Akhtar
सच ये है बेकार हमें ग़म होता है
जो चाहा था दुनिया में कम होता है

ढलता सूरज, फैला जंगल, रस्ता गुम
हमसे पूछो कैसा आलम होता है

ग़ैरों को कब फ़ुरसत है दुख देने की
जब होता है कोई हमदम होता है

ज़ख़्म तो हम ने इन आँखों से देखे हैं
लोगों से सुनते हैं मरहम होता है

ज़हन की शाख़ों पर अश'आर आ जाते हैं
जब तेरी यादों का मौसम होता है
एल्बम: सिलसिले
गायक: जगजीत सिंह
शायर: जावेद अख्तर
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation