गुरुवार, 18 मई 2017

Pyaas Ki Kaise Laaye Tab Koi



Pyaas Ki Kaise Laaye Taab Koi,
Nahi Dariya To Ho Sarab Koi,

Raat Bajati Thi Dur Shahanaai,
Roya Peekar Bahut Sharab Koi,

Kaun Sa Zakhm Kisane Bhaksha Hai,
Uska Rakhe Kahaan Hisaab Koi,

Phir Main Sunane Laga Hu Is Dil Ki,
Aane Wala Hai Phir Ajaab Koi.
Album: SOZ
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Javed Akhtar
प्यास की कैसे लाए ताब कोई
नहीं दरिया तो हो सराब कोई

रात बजती थी दूर शहनाई
रोया पीकर बहुत शराब कोई

कौन-सा ज़ख़्म किसने बख़्शा है
इसका रक्खे कहाँ हिसाब कोई

फ़िर मैं सुनने लगा हूँ इस दिल की
आने वाला है फिर अज़ाब कोई

ज़ख़्म दिल में जहाँ महकता है
इसी क्यारी में था गुलाब कोई

दिल को घेरे हैं रोज़गार के ग़म
रद्दी मे खो गई किताब कोई

शब की दहलीज़ पर शफ़क़ है लहू
फ़िर हुआ क़त्ल आफ़्ताब कोई
एल्बम: सोज़
गायक: जगजीत सिंह
शायर: जावेद अख़्तर
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation