बुधवार, 10 मई 2017

Mohabbaton Mein Dikhawe Ki Dosti Na Mila



Mohabbaton Mein Dikhawe Ki Dosti Na Mila;
Agar Gale Nahi Milta To Haath Bhi Na Mila!

Gharo Pe Naam The Namo Ke Saath Ouhade The;
Bahut Talash Kiya Koi Admi Na Mila!

Taamam Rishto Ko Mein Ghar Pe Chhod Aaya Tha;
Phir Uske Baad Mujhe Koi Ajnabi Na Mila!

Bahut Ajeeb Hai Yeh Pubato Ki Duri Bhi;
Woh Mere Saath Raha Aur Mujhe Kabhi Na Mila!

Agar Gale Nahi Milta To Haath Bhi Na Mila,
Mohabbaton Mein Dikhawe Ki Dosti Na Mila
Album: Tum To Nahin Ho
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Bashir Badr
मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला
अगर गले नहीं मिलता तो हाथ भी न मिला

घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे
बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला

तमाम रिश्तों को मैं घर पे छोड़ आया था
फिर उस के बा'द मुझे कोई अजनबी न मिला

ख़ुदा की इतनी बड़ी काएनात में मैं ने
बस एक शख़्स को माँगा मुझे वही न मिला

बहुत अजीब है ये क़ुर्बतों की दूरी भी
वो मेरे साथ रहा और मुझे कभी न मिला
एल्बम: तुम तो नहीं हो
गायक: जगजीत सिंह
शायर: बशीर बद्र
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation
Ghazal By - Jagjit Singh

Ghazal By -  Javed Hussain