सोमवार, 15 मई 2017

Mujhko Yakeen Hai Sach Kehti Thi Jo Bhi Ammi Kehti Thi



Mujhko Yakeen Hai Sach Kehti Thi Jo Bhi Ammi Kehti Thi
Jab Mere Bachpan Ke Dine The, Chaand Mein Pariyaan Rehti Thee

Ek Ye Din Jab Apnon Ne Bhi Humse Jnaata Tod Liya
Ek Wo Din Jab Ped Ki Shaakhen Bojh Hamara Sehti Thee

Ek Ye Din Jab Saari Sadken Ruthi Ruthi Lagti Hain
Ek Wo Din Jab Aao Khele Saari Galiyan Kehti Thee

Ek Ye Din Jab Jaagi Raaten Diwaaron Ko Takti Hain
Ek Wo Din Jab Shaamon Ko Bhi Palken Bojhal Rehti Thee

Ek Ye Din Jab Laakhon Gham Aur Kaal Pada Hai Aansoon Ka
Ek Wo Din Jab Ek Zara Sa Baat Pe Nadiyaan Behti Thee
Album: SILSILAY
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Javed Akhtar
मुझको यक़ीं है सच कहती थीं जो भी अम्मी कहती थीं
जब मेरे बचपन के दिन थे चाँद में परियाँ रहती थीं

एक ये दिन जब अपनों ने भी हमसे नाता तोड़ लिया
एक वो दिन जब पेड़ की शाख़ें बोझ हमारा सहती थीं

एक ये दिन जब सारी सड़कें रूठी-रूठी लगती हैं
एक वो दिन जब आओ खेलें सारी गलियाँ कहती थीं

एक ये दिन जब जागी रातें दीवारों को तकती हैं
एक वो दिन जब शामों की भी पलकें बोझल रहती थीं

एक ये दिन जब लाखों ग़म और काल पड़ा है आँसू का
एक वो दिन जब एक ज़रा सी बात पे नदियाँ बहती थीं

एक ये दिन जब ज़हन में सारी अय्यारी की बातें हैं
एक वो दिन जब दिल में भोली-भाली बातें रहती थीं

एक ये घर जिस घर में मेरा साज़-ओ-सामाँ रहता है
एक वो घर जिस घर में मेरी बूढ़ी नानी रहती थीं
एल्बम: सिलसिले
गायक: जगजीत सिंह
शायर: जावेद अख्तर
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation
Jagjit Singh