सोमवार, 15 मई 2017

Main Bhool Jaaoon Tumhe, Ab Yahi Munaasib Hai



Main Bhool Jaaoon Tumhe, Ab Yahi Munaasib Hai
Magar Bhoolna Bhi Chaahoon To Kis Tarah Bhooloon
Ke Tum To Fir Bhi Haqikat Ho Koi Khwaab Nahin
Yahan To Dil Ka Ye Aalam Hai Kyaa Kahoon
'kambakht'
Bhula Saka Na Ye Wo Silsila Jo Thaa Hi Nahin
Wo Ik Khyaal Jo Awaaz Tak Gaya Hi Nahin

Wo Ek Baat Jo Main Keh Nahin Saka Tumse
Wo Ek Rawt Jo Hum Mein Kabhi Raha Hi Nahin
Mujhe Hai Yaad Wo Sab Jo Kabhi Huwa Hi Nahin
Agar Ye Haal Hai Dil Ka To Koi Samjhaaye

Tumhe Bhulaana Bhi Chaahoon To Kis Tarah Bhooloon
Ke Tum To Fir Bhi Hakikat Ho Koi Khwaab Nahin
Album: SILSILAY
Singers: Jagjit Singh
Lyricist: Javed Akhtar
मैं भूल जाऊँ तुम्हें अब यही मुनासिब है
मगर भुलाना भी चाहूँ तो किस तरह भूलूँ
के तुम तो फिर भी हक़ीक़त हो कोई ख़्वाब नहीं
यहाँ तो दिल का ये आलम है क्या कहूँ
‘कमबख़्त’
भुला सका न ये वो सिलसिला जो था ही नहीं
वो इक ख़याल जो आवाज़ तक गया ही नहीं

वो एक बात जो मैं कह नहीं सका तुम से
वो एक रब्त जो हम में कभी रहा ही नहीं
मुझे है याद वो सब जो कभी हुआ ही नहीं
अगर ये हाल है दिल का तो कोई समझाए

तुम्हें भुलाना भी चाहूँ तो किस तरह भूलूँ
के तुम तो फिर भी हक़ीक़त हो कोई ख़्वाब नहीं
एल्बम: सिलसिले
गायक: जगजीत सिंह
शायर: जावेद अख्तर
Watch/Listen on youtube: Pictorial Presentation